?>

IMAGINATION AVATAR PART - 7 ( HINDI)

IMAGINATION AVATAR PART - 7 ( HINDI)

रूप -रेखा भाग - 7
दिन-रात जंगल चम-चम चमकता रहता। जंगल की सीमा से बाहर और सीमा के अंदर का नजारा एक - दूसरे से भिन्न। जैसे पूरा जंगल एक गोले में समाया हो। जो अद्भुत जगमगाते पक्षी व जंतु अन्दर। ये गोले से बाहर नहीं। अदभुद कल्पना से बहरा नजारा। गोले के चारों तरफ बिजली सी लहराती। जंगल का आकाश भी उसी गोले में समाया हुआ।............ TO BE CONTINUED. CLICK THE LINE AND SHARE AND READ.

Visit more websites and receive more visits to your website.

Send this member a message. Use messaging system if you need more details about visit exchange.
Please or register to send a message
Post Date:
June 18, 2020
View Type:
Just Visit + Comment
Total Views:
148
Total Visits:
14
Members Website link.
Right click to copy and paste.